रेमडेसिवीर दवा की कालाबाजारी करने वाले जाएंगे जेल, मेडिकल होगा सील, लायसेंस भी होगा निरस्त

4/8/2021 1:39:58 PM

इंदौर(गौरव कंछल): शहर हित में सदैव सख्त निर्णयों लेने वाले कलेक्टर मनीष सिंह ने आज कोरोना मरीजों के लिए फिर एक सख्त निर्णय लिया है। उन्होंने रेजीडेंसी में हुई मीटिंग के बाद शहरभर के मेडिकल संचालकों को चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर कोई भी रेमडेसिवीर दवाई की कालाबाजारी करेगा तो सीधे जेल जाएगा। मेडिकल सील होगा और लायसेंस भी निरस्त किया जाएगा। अगर इस बीच कोई दलाल भी मिला तो उसे भी सीधे जेल भेजा जाएगा। मनीष सिंह के इस सख्त निर्णय से अब उम्मीद है कि कोरोना पॉजिटिव मरीज जिनको इस दवा की जरूरत है। उन्हें ये जरूर मिलेगी।

PunjabKesari

आपको बता दें कि इंदौर में कोरोना के मरीज लगातार बढ़ रहे हैं। मरीजों की संख्या 898 पर पहुंच चुकी हैं। वही इस महामारी में वैक्सीनेशन को लेकर लोग परेशान हो रहे हैं, दर-दर भटक रहे हैं। यहां तक कि अब आलम यह हो गया है कि 900 रुपए का रेमडेसिवर वैक्सीनेशन 6000 में ब्लैक में दवा बाजार में मिल रहा है।

PunjabKesari

दवा बाजार में वैक्सीनेशन को लेकर भीड़ रही लोगों का खुलेआम कहना था, कि ड्रग माफियाओं की बेधड़क कालाबाजारी चल रही है। इसलिए गरीब जनता को रेमडीसी वैक्सीनेशन तक नहीं मिल रहा। एक तरफ शासन-प्रशासन कोरोना के प्रति जागरूक रहने की दुहाई दे रहा है। वहीं दूसरी तरफ वैक्सीनेशन की भी कालाबाजारी चल रही है। ड्रग माफिया हजारों में रेमडेसीवीर वैक्सीनेशन को बेच रहे हैं। ताकि अपनी जेबें भर सकें और कोई भी जिम्मेदार अधिकारी इस ओर ध्यान नहीं दे रहा है। यहां तक कि जिस को भी ब्लैक में वैक्सीनेशन बिकने की जानकारी है वह ले रहा है बाकी गरीब परेशान हो रहे हैं। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

meena

Related News

Recommended News