Punjab Kesari MP ads

मप्र साहित्य अकादमी ने 2019 के अखिल भारतीय एवं प्रादेशिक कृति पुरस्कारों की घोषणा की

11/28/2022 3:35:40 PM

भोपाल, 28 नवंबर (भाषा) मध्यप्रदेश संस्कृति विभाग की साहित्य अकादमी द्वारा कैलेण्डर वर्ष 2019 के कृति पुरस्कारों की घोषणा कर दी गई है। इसमें 13 अखिल भारतीय जबकि 15 प्रादेशिक कृति पुरस्कार शामिल हैं। एक अधिकारी ने इसकी जानकारी दी ।

मध्यप्रदेश जनसंपर्क विभाग के एक अधिकारी ने सोमवार को बताया कि अखिल भारतीय पुरस्कार में प्रति रचनाकार को एक लाख रूपये एवं प्रादेशिक पुरस्कार में प्रति रचनाकार को 51,000 रूपये के साथ शॉल, श्रीफल, स्मृति-चिन्ह और प्रशस्ति के साथ अलंकृत किया जाता है।

उन्होंने कहा कि अखिल भारतीय पंडित माखनलाल चतुर्वेदी (निबंध) पुरस्कार डॉ. मनोज पाण्डेय, नागपुर की कृति "आलोचना के नये परिप्रेक्ष्य'''' को दिया गया है, जबकि अखिल भारतीय गजानन माधव मुक्तिबोध (कहानी) सच्चिदानंद जोशी, दिल्ली की कृति "पल भर की पहचान'''' को दिया गया है।

अधिकारी ने बताया कि अखिल भारतीय राजा वीरसिंह देव (उपन्यास) प्रोफेसर मनीषा शर्मा, अमरकंटक की कृति "ये इश्क...'''' को, अखिल भारतीय आचार्य रामचन्द्र शुक्ल (आलोचना) डॉ. कविता भट्ट, उत्तराखण्ड की कृति "भारतीय साहित्य में जीवन मूल्य'''' को, अखिल भारतीय पंडित भवानी प्रसाद मिश्र (गीत एवं हिन्दी गजल) डॉ. आर. पी. सारस्वत, सहारनपुर की कृति "तुम बिन'''' को और अखिल भारतीय अटल बिहारी वाजपेयी (कविता) डॉ. इन्दु राव, हरियाणा की कृति "छांह संस्कृति की'''' को दिया गया है।

उन्होंने कहा कि इसके अलावा, अखिल भारतीय कुबेरनाथ राय (ललित निबंध) राजेश जैन, दिल्ली की कृति "ईश्वर की आत्मकथा'''' को, अखिल भारतीय विष्णु प्रभाकर (आत्मकथा जीवनी) डॉ. कुलदीप चंद अग्निहोत्री, मोहाली की कृति "श्री गुरु नानक देवजी'''' को, अखिल भारतीय निर्मल वर्मा (संस्मरण) प्रो. सूर्यप्रकाश चतुर्वेदी, इंदौर की कृति "बदलती हवाएँ'''' को, अखिल भारतीय महादेवी वर्मा (रेखाचित्र) प्रशांत पोल, जबलपुर की कृति "वे पंद्रह दिन'''' को, अखिल भारतीय प्रोफेसर विष्णुकांत शास्त्री (यात्रा-वृत्तांत) डॉ. सुधा गुप्ता ''अमृता'', कटनी की कृति "चलें भ्रमण की ओर'''' को, अखिल भारतीय भारतेन्दु हरिश्चन्द्र (अनुवाद) संतोष रंजन, भोपाल की कृति "थेल्मा मेरी कोरिली'''' को और अखिल भारतीय नारद मुनि (फेसबुक/ब्लाग /नेट) पुरस्कार अजय जैन ''विकल्प'',इंदौर को उनके पेज "फेसबुक/ब्लॉग/नेट'''' को दिया गया है।

अधिकारी ने बताया कि इन 13 अखिल भारतीय कृति पुरस्कारों के अलावा 15 प्रादेशिक कृति पुरस्कारों की घोषणा भी की गई है, जिनमें वृन्दावन लाल वर्मा (उपन्यास) पुरस्कार डॉ. अश्विनी कुमार दुबे, इंदौर की कृति "किसी शहर में'''' और सुभद्रा कुमारी चौहान (कहानी) डॉ. गरिमा संजय दुबे, इंदौर की कृति "दो ध्रुवों के बीच की आस'''' शामिल हैं।



यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

PTI News Agency

Related News

Recommended News