गजब! 18 बच्चों की मौत पर भी राजनीति, श्रेय लेने में कांग्रेस-बीजेपी में मची होड़

12/9/2020 4:45:45 PM

शहडोल(अजय नामदेव): शहडोल संभाग के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल कुशाभाऊ ठाकरे में 18 बच्चों की मौत के बाद शहडोल दौरे पर आए स्वास्थ्य मंत्री द्वारा सीएमएचओ व सिविल सर्जन को हटाए जाने को लेकर अब जमकर राजनीति हो रही है। सीएमएचओ व सिविल सर्जन के हटाए जाने का श्रेय लेने के लिए भाजपा व कांग्रेस में होड़ मची है। 

PunjabKesari

कांग्रेस का दावा है कि उन्होंने मंत्री के सामने विरोध प्रदर्शन किया था और सीएमएचओ व सिविल सर्जन को हटाए की मांग की थी इसलिए एक्शन लिया गया, तो वही भाजपा के प्रतिनिधि मंडल का दावा है कि उनके द्वारा भाजपा के लेटरपैड में सीएमएचओ व सिविल सर्जन को हटाए जाने की मांग की गई थी जिस पर उन्हें हटाया गया। मामला गर्माते ही भाजपा के लेटरपैड में सीएमएचओ व सिविल हटाने जाने का लेटर सोसल मीडिया में खूब वायरल हो रहा है ।

PunjabKesari

जिले के कुशा भाऊ ठाकरे जिला अस्पताल के SNCU व PICU में इलाज के दौरान 26 तारीख से लेकर अब तक हुई 18 बच्चों के मौत का मामले में शहडोल दौरे पर आए। स्वास्थ्य मंत्री प्रभु राम चौधरी द्वारा सीएमएचओ डॉ राजेश पांडेय व सिविल सर्जन डॉ वीएस बैरिया को हटाए जाने के बाद अब शहडोल में एक अलग ही राजनीति शुरू हो गई है। भाजपा व कांग्रेस दोनों का दावा है कि उनके शिकायत के दौरान मांग पर सीएमएचओ व सिविल सर्जन को हटाया गया है। दोनों में इस बात का श्रेय लेने की होड़ मची हुई है।

PunjabKesari

बता दें कि मंत्री प्रभु राम चौधरी के शहडोल दौरे के दौरान जिला चिकित्सालय के निरीक्षण के दौरान कांग्रेसियों ने 18 बच्चों की मौत के मामले में CMHO व सिविल सर्जन को जिम्मेवार ठहराते हुए मंत्री के सामने विरोध कर CMHO व सिविल सर्जन को हटाने की मांग की थी, तो वही भाजपा का एक प्रतिनिधि मंडल ने भाजपा के लेटर पैड में बच्चों के मौत पर CMHO व सिविल सर्जन को जिम्मेवार ठहराते हुए उन्हें हटाने की मांग की थी।

PunjabKesari

जिसके बाद स्वास्थ्य मंत्री ने जिले के स्वास्थ्य अधिकारियों को लापरवाह नहीं मानते हुए क्लीन चिट दे दी थी, लेकिन अनूपपुर दौरे में जाने के दौरान CMHO व सिविल सर्जन हटाने का मौखिक आदेश कर दिया था। जिसके बाद से कांग्रेस व भाजपा दोनों ही यह दावा कर रही है । उनके मांग के बाद स्वास्थ्य मंत्री ने CMHO व सिविल सर्जन को हटाया है। जिसको लेकर अब शहडोल में राजनीति गरमा गई है।

 

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

meena

Related News

Recommended News