पुलिस का एक चेहरा यह भी...एनकाउंटर में घायल नक्सली को खून देकर मौत के मुंह से निकाला

1/26/2024 6:28:34 PM

गरियाबंद(फारूक मेमन): जिसे गोली से घायल किया फिर उसी की जान बचाने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगाया...सुनने में थोड़ा अटपटा लग रहा होगा लेकिन गरियाबंद में पुलिस और नक्सली महिला के साथ कुछ ऐसा ही हुआ। जहां नक्सली मुठभेड़ में गले में गोली लगने से घायल नक्सली महिला की जान बचाने एक पुलिस जवान आगे आया और रक्तदान कर उसकी जान के कोशिश कर एक मिसाल कायम की है। जिसकी आम नागरिकों के साथ पुलिस अधिकारियों ने भी सराहना की है। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अमित तुकाराम कांबले महिला नक्सली के रायपुर रेफर होने तक व्यवस्थाओं को लगातार नजर बनाए रखा।

PunjabKesari

गरियाबंद में हुई एक नक्सली घटना के बीच जिला पुलिस ने ऐसी मिसाल कायम की है जिसे जानकर लोग पुलिस की प्रशंसा कर रहे है। शुक्रवार दोपहर बाद नक्सली कैंप पर पुलिस ने घेराबन्दी की और दोनों ओर से फायरिंग होने लगी जिसमें एक महिला नक्सली को घायल हो गई। उसके गले में गोली लगी थी मगर जब घायल नक्सली पुलिस के हाथ लगी तो पूरी टीम उसकी जान बचाने में जुट गई।

PunjabKesari

पुलिस महिला नक्सली के अस्पताल पहुंचने के पूर्व ही डॉक्टर, एम्बुलेंस जरूरी दवाओं, ऑक्सीजन के साथ ही सारी व्यवस्था कर उक्त महिला नक्सली को बचाने के लिए तैयार रखी थी। जिला अस्पताल पहुंचने पर देखा गया कि उक्त नक्सली महिला के शरीर से खून अधिक बह गया है तो तत्काल पुलिस का एक जवान ने ही अपना खून देकर उसको बचाने का उल्लेखनीय प्रयास किया।

PunjabKesari

इस घटना ने पुलिस के मानवता पूर्ण चेहरे को भी सबके सामने रखा। जो पुलिस इन नक्सलियों को घेराबंदी कर मुठभेड़ करने गई थी, वही पुलिस उक्त घायल नक्सली महिला को बचाने में पूरी की जान से जुट मानवता की मिसाल पेश की।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

meena

Recommended News

Related News