किसान सम्मान निधि योजना में बड़ा फर्जीवाड़ा, लाखों फर्जी किसानों के खातों में राशि हुई ट्रांसफर

3/16/2021 1:44:04 PM

भोपाल: MP में किसान सम्मान निधि योजना को लेकर बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आया है। राज्य में करीब 1 लाख 70 हजार अपात्र किसानों के खाते में राशि पहुंची है। प्रदेश सरकार ने ऐसे अपात्र किसानों को राशि लौटाने के लिए नोटिस भेजा है।

सरकार का नोटिस मिलने के बाद करीब 9 हजार किसान राशि लौटा चुके हैं। केंद्र सरकार की इस योजना में फर्जीवाड़ा होने के आंकड़े विधानसभा में दिए गए। इसको लेकर कांग्रेस विधायक हर्ष यादव ने सवाल लगाया था, जिसका लिखित जवाब राजस्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने दिया। हालांकि उन्होंने ये नहीं बताया कि अपात्र किसानों के खातों में कितनी राशि ट्रांसफर हो चुकी है।

कांग्रेस विधायक ने पूछा था कि 1 जनवरी 2021 की स्थिति में प्रदेश में कितने किसानों को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत अपात्र मानते हुए राशि वापस लेने के लिए नोटिस जारी किए गए हैं और इनमें से कितने किसानों ने अब तक राशि लौटाई है।

राजस्व मंत्री ने जवाब में बताया कि प्रदेश में सबसे ज्यादा नोटिस उज्जैन के 9323 अपात्र किसानों को दिए गए। इसमें से 163 किसानों ने राशि लौटाई है। इसी तरह सीहोर-छिंदवाड़ा में 8-8 हजार से अधिक अपात्र किसान चिन्हित किए गए हैं। बता दें कि सीहोर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और छिंदवाड़ा पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ का गृह जिला है।

बता दें कि किसान सम्मान निधि योजना छोटे किसानों को खेती में होने वाली आर्थिक समस्या को दूर करने के उद्देश्य से लागू की गई थी। वहीं, केंद्र सरकार की योजना का लाभ ऐसे लोगों ने लिया, जिनके नाम पर अपनी खेती योग्य जमीन भी नहीं है। ऐसे फर्जी किसान अपने दादा या पिता की जमीन का एलपीसी बनाकर अपना नाम किसान सम्मान निधि योजना में जुड़वा लिया, जो वास्तविक में उसके हकदार नहीं हैं।

बता दें कि पीएम किसान सम्मान निधि योजना केंद्र सरकार ने 2018-19 में शुरू की थी। इसमें 5 हेक्टेयर तक के किसानों को 3 किस्तों में 6 हजार रुपये की राशि दी जाती है। इसमें किसानों को 3 किस्तों में 2-2 हजार रुपये की राशि खाते में जमा की जाती है। इसके साथ ही मध्य प्रदेश सरकार 4 हजार रुपये किसानों के खाते में ट्रांसफर करती है। ऐसे कुल 10 हजार रुपये किसानों के खाते में डाले जा रहे हैं।

 


Content Writer

shahil sharma

सबसे ज्यादा पढ़े गए

Recommended News

static