Video:वित्तमंत्री के बंगले पर पहुंचे निर्दलीय विधायक शेरा, बोले- गृहमंत्री बनना चाहता हूं

3/9/2020 3:57:20 PM

भोपाल(इजहार हसन खान): मध्य प्रदेश में कांग्रेस के दो विधायकों का 6 दिन बाद भी कुछ पता नहीं है। निर्दलीय विधायक सुरेंद्र सिंह शेरा सोमवार सुबह मुंबई से भोपाल वापस आ गए। शेरा सीधे तरुण भनोट से मिलने उनके निवास पर पहुंचे। यहां उन्होंने मीडिया से चर्चा करते हुए कहा 'गृहमंत्री बनना चाहता हूं, वर्तमान गृहमंत्री बाला बच्चन में क्षमताओं की कमी है। उनसे काम संभल नहीं रहा है। मैं कहा पीपुल फ्रेंडली पुलिस बनाने की उनकी इच्छा है। वे चहाते हैं कि लोग पुलिस से डरे नहीं उनकी दोस्त बने। माता रानी की जय हो'।

वहीं इससे पहले उन्होंने कहा कि अब टूट-फूट तो बीजेपी में होने वाली है। बीजेपी के कई विधायक उनके संपर्क में हैं। बीजेपी विधायकों के बारे में वे जल्द ही मुख्यमंत्री कमलनाथ से चर्चा करेंगे। मुरैना से विधायक रघुराज सिंह कंषाना के परिजन आज उनकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराने वाले हैं। मुख्यमंत्री कमलनाथ और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह दिल्ली पहुंच गए हैं।

PunjabKesari

विधायक सुरेंद्र सिंह शेरा ने कहा कि उन्हें न तो कोई लेकर गया और न ही किसी ने बंधक बनाया। अपनी ये बात वे मुख्यमंत्री के सामने भी स्पष्ट कर चुके हैं। वे मुख्यमंत्री के साथ हैं और रहेंगे। कांग्रेस के दो विधायकों के अभी भी लापता होने के सवाल पर वित्तमंत्री तरुण भनोट ने कहा कि हम उनका इंतजार कर रहे हैं, वे कभी भी आ सकते हैं। वित्तमंत्री ने उल्टे मीडिया से सवाल कर पूछा कि भाजपा के भी कई विधायक गायब हैं, उन पर इतनी चर्चा क्यों नहीं हो रही। उन्होंने कहा कि कोई ये भी बताएगा की बीजेपी विधायक अरविंद भदौरिया इन दिनों कहां हैं और किसके साथ हैं।

वहीं कांग्रेस विधायक हरदीप सिंह डंग के इस्तीफे को लेकर कई तरह के कयास लगाए जा रहे हैं। कहा जा रहा है कि हरदीप का इस्तीफा अभी तक विधानसभा अध्यक्ष के पास नहीं पहुंचा है। इस्तीपा सिर्फ सोशल मीडिया में वायरल हुआ है। विधानसभा अध्यक्ष प्रजापति इस्तीफे पर संदेह जताते हुए कहा था कि जब तक डंग आमने-सामने उन्हें इस्तीफा नहीं सौंपेंगे या भेजे गए पत्र को अपना नहीं बताएंगे, तब तक वे उस पर कुछ नहीं कहेंगे। बताया जाता है कि हरदीप सिंह डंग के जिस पत्र को इस्तीफा बताया जा रहा है, उसको लेकर कांग्रेस ने कहा कि वह उनके अपने क्षेत्र की समस्याओं से संबंधित पत्र है। कांग्रेस नेता शोभा ओझा ने कहा कि इस्तीफा इतना बड़ा नहीं लिखा जाता। इस्तीफा दो लाइन का होता है। विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा तब माना जाता है, जब कोई विधायक विधानसभा अध्यक्ष के सामने देता। विधानसभा अध्यक्ष को डंग ने जो पत्र लिखा है, उसमें समस्याएं बताई हैं।

इसी तरह से मुरैना विधायक रघुराज कंषाना का अभी तक कोई पता नहीं है। बताया जा रहा है कि रघुराज के परिजन खुद उनकी तलाश कर रहे हैं। कहा जा रहा है कि परिजन आज शाम तक विधायक की गुमशुदगी की रिपोर्ट पुलिस थाने में दर्ज करा सकते हैं। बताया जा रहा है कि रघुराज के परिजनों से पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह संपर्क बनाए हुए हैं। 


Edited By

Jagdev Singh

Related News