मालिक के इशारे पर मौत से चंद मिनट पहले किया डांस ! फिर पालतू घोड़े को इंजेक्शन देकर सुला दिया मौत की नींद

12/4/2021 1:16:17 PM

बैतूल(रामकिशोर पवार): मध्य प्रदेश के बैतूल जिले की चिचोली नगर परिषद में एक घोड़े को मौत का मर्सी किंलिग प्रक्रिया के तहत इंजेक्शन देकर दफना दिया गया। चिचोली का यह पालतू घोड़ा एक शानदार डांसर था जो चलता भी था तो ऐसा लगता था मानों डांस कर रहा हो, उसे डॉक्टरों की टीम ने इंजेक्शन लगाकर सदा के लिए मौत की नींद सुला दिया। डांसर जिसने मौत के चंद मिनट पहले भी मालिक के इशारे पर डांस किया एक लाइलाज बीमारी ग्लैडर्स से ग्रस्त था।

PunjabKesari

डांसर को मर्सी किंलिग प्रक्रिया के बाद दफनाया गया
जानकारी के मुताबिक, चिचोली निवासी दिलीप राठौर ने तीन महीने पहले ही ढाई लाख रुपए में एक घोड़ा खरीदा था। जिसे डांस का बहुत शौक था वह मालिक के इशारे पर ही नाचने लग जाता था। लेकिन अचानक ही डांसर एक लाइलाज बीमारी ग्लैडर्स से ग्रस्त हो गया। जिसके चलते आखिरकार जिला कलेक्टर ने 5 साल के इस घोड़े को दर्द रहित इंजेक्शन लगाकर मर्सी किलिंग यानी ‘दया की मौत’ देने का आदेश दे दिया। इसके बाद घोड़े के अंतिम संस्कार के लिए जेसीबी से चार फीट गहरा गड्ढा गया और प्रशासनिक अधिकारियों की उपस्थिति में डांसर को दफनाया गया।

PunjabKesari

डांसर के इलाज के लिए की भाग दौड़
पशु चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर के सी तवर ने बताया पशु पालक दिलीप राठौर ने डेढ़ महीने पूर्व जिला पशु चिकित्सालय में बीमार घोड़े का इलाज करवाया गया था। पशु चिकित्सक द्वारा घोड़े मे नजर आए लक्षणों के आधार पर घोड़े के ब्लड सैंपल लेकर इसे हरियाणा की हिसार लैब में भेजा जहां से मिली रिपोर्ट के मुताबिक घोड़े को ग्लैडर्स नाम की बीमारी की पुष्टि हुई।
PunjabKesari

क्या है लाइलाज बीमारी ग्लैडर्स
ग्लैडर्स एक जेनेटिक बीमारी है, जो ज्यादातर घोड़ों, गधों और खच्चरों में होती है। इस बीमारी से पीड़ित पशु दिन ब दिन कमजोर होता जाता है, क्योंकि इसका कोई इलाज नहीं है। सबसे बड़ी बात यह कि ग्लैडर्स पशुओं से इंसानों में फैल सकती है। इस बीमारी से पीड़ित पशु को मारना ही पड़ता है क्योंकि इसका कोई इलाज नहीं है। इसके लिए ग्रस्त पशु को दर्दरहित इंजेक्शन दिए जाते हैं, जिसके बाद पशु गहरी नींद में चला जाता है और उसी दौरान कुछ ही देर में उसकी मौत हो जाती है। 

PunjabKesari

मौत से चंद मिनट पहले किया डांस
डांसर को लेकर दिलीप बहुत भावुक था। दिलीप ने डांसर की मौत से चंद मिनट पहले इशारा किया और हर चीज से अंजान घोड़े ने नाचना शुरु कर दिया। यह डांसर का आखिरी डांस था। देखते ही देखते सारा माहौल गमगीन हो गया। इसके बाद नियमानुसार जिला कलेक्टर के आदेश के बाद आज घोड़े की किलिंग प्रक्रिया के तहत 4 दर्द रहित इंजेक्शन की सहायता से दस मिनट मे घोड़े को मौत देने की प्रकिया कर विधिवत रूप से घोड़े को चार फीट गडडे मे मोक्षधाम सड़क पुरा के पीछे में दफनाया गया है। डॉक्टर के सी तंवर ने बताया कि घोड़े को ग्लैडर्स एंड फायसी नामक ला ईलाज घातक बिमारी थी जिससे मनुष्य मे फैलने का खतरा होता है इस एक्ट मे 1899/13 एक्ट के तहत पशु पालक को 25000 का मुआवजा दिया जाएगा।

PunjabKesari

ये रहे मौजूद
इस अवसर पर के के देशमुख उपसंचालक पशु विभाग बैतूल डॉ विजय पाटिल अतिरिक्त उपसंचालक डॉक्टर आरके बंसल अतिरिक्त संचालक डॉक्टर चंचल मेश्राम वरिष्ठ पशु टिकारी बैतूल डॉ मनीषा सहष नानी जिला रोग अनुसंधान बेतूल , डॉ सतीश नवड़े विकासखंड आठनेर एवं डॉ के सी तंवर चिचोली की संयुक्त टीम ने कोरोना वाली पीपी किट कपड़े पहनकर घटना को अंजाम दिया इस प्रकिया के कलेक्टर के आदेशानुसार इन सभी डॉक्टर और प्रशासनिक अधिकारियो और घोड़े के मालिक सहित इस प्रकिया मे जुड़े सभी लोगों के ब्लड सैम्पल लेने की प्रकिया की जायेगी।

PunjabKesari


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

meena

Related News

Recommended News