बाबा महाकाल के दर पर साल का आखिरी दिन, आंगन में हुई शिव आराधना

12/31/2020 1:23:05 PM

उज्जैन: 2020 के आखिरी दिन महाकालेश्वर मंदिर शिवमय हो गया। महाकाल मंदिर में गुरुवार को सुबह से ही देश विदेश से आए श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी। श्रद्धालुओं को गणेश मंडपम के बैरिकेड से ही दर्शन कराए गए। प्रांगण में लोगों ने मंदिर के सामने खड़े होकर फोटो खिंचवाई। बता दें कि नए साल पर महाकालेश्वर मंदिर में दर्शनार्थियों बढ़ती संख्या को देखते हुए मंदिर प्रबंधन ने 30 दिसंबर से 2 जनवरी तक दर्शनार्थियों के प्रवेश पर रोक लगा दी है। सारे भक्त नंदी हॉल में एंट्री नहीं कर सकता है।

PunjabKesari

साल के आखिरी दिन महाकाल के दर्शन के लिए सुबह से ही श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी रहीगुरुवार सुबह 10 बजे एक म्यूजिकल ग्रुप ने शिव आराधना की प्रस्तुति कर सभी श्रद्धालुओं को मंत्रमुग्ध कर दिया और अपने भजनों के माध्यम से विश्व को आने वाले साल में कोरोना महामारी से छुटकारा दिलाने की प्रार्थना की। उन्होंने उम्मीद जताई कि जल्द ही इस महामारी से छुटकारा मिलेगा और बाबा महाकाल की भस्मारती में उनके देश के कोने-कोने और विदेशों से आने वाले भक्तों को शामिल होने का मौका मिलेगा।

PunjabKesari

आपको बता दें कि कोरोना की वजह से अब तक मंदिर में सुबह 6 से रात 9 बजे तक दर्शन होते थे जो अब रात पौने 10 बजे यानि 9.45 तक चालू रहेंगे। गर्भगृह में प्रवेश पर प्रतिबंध जारी रखा गया है। दर्शन के लिए ऑनलाइन बुकिंग व्यवस्था जारी रखते हुए प्रत्येक 2 घंटे के स्लॉट में 3500 दर्शनार्थी बुकिंग करा सकेंगे। बुधवार से भक्तों को नई व्यवस्था का लाभ मिलने लगेगा। ज्योतिर्लिंग महाकाल मंदिर में मंगलवार को कलेक्टर आशीषसिंह की अध्यक्षता में हुई प्रबंध समिति की बैठक में महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। अब 8 स्लॉट में 28 हजार भक्तों को प्रतिदिन भगवान महाकाल के दर्शन कराए जाएंगे।

PunjabKesari

मंदिर में दर्शन करने आने वाले VIP प्रोटोकॉल ढाई सौ रुपए से दर्शन करने वाले को अब भस्म आरती गेट के पास नए गेट से प्रवेश दी जाएगी। यह गेट भस्म आरती गेट के बिल्कुल करीब बनाया गया है, जहां पर प्रोटोकॉल VIP ढाई सौ रुपए प्रसिद्ध काउंटर जूता चप्पल स्टैंड बनाया गया है। नियमित श्रद्धालु भी इसी गेट से आ जा सकेंगे।

 

 


meena

Related News