नवजात बच्चे चुराकर नि:संतानों से मुंहमांगी कीमत वसूलता था यह चोर गिरोह, दाई और दंपति समेत 7 गिरफ्तार

2/23/2021 1:28:29 PM

इंदौर(सचिन बहरानी): आर्थिक राजधानी इंदौर में एसटीएफ ने निजी अस्पतालों और क्लीनिक से बच्चा चुराने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया है। हैरान कर देने वाली बात यह है कि यह गोरखधंधा कई सालों से चल रहा था। बच्चा चोर गिरोह अस्पतालों से बच्चा चुरा कर नि:संतान दंपतियों को मुंह मांगे दामों पर बेच दिया करते थे। इस मामले में एसटीएफ टीम ने एक दाई और दंपति समेत 7 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। बताया जा रहा है कि गिरोह के तार इंदौर, देवास और ग्वालियर से जुड़े हैं।

PunjabKesari

जानकारी के मुताबिक, बच्चों के हितों में काम करने वाली गैर सरकारी संस्था चाइल्ड लाइन को सूत्रों के हवाले से सूचना मिली थी कि इंदौर में एक दाई लीलाबाई और देवास का एक दंपति पुष्पा और प्रभुदयाल बच्चों को चुरा कर नि:संतान दंपतियों को लाखों रुपए में बेचते हैं। मामले की शिकायत भोपाल की सामाजिक संस्था, जनसमस्या समाधान समिति ने एडीजी इंटेलिजेंस आदर्श कटियार को भेजी। इसके बाद जांच के लिए मामला एसटीएफ इंदौर को सौंपा गया। जिसके आधार पर कार्रवाई की गई। पुलिस ने दाई, दंपति और अन्य 7 को गिरफ्तार करके पूछताछ शुरु कर दी है।

PunjabKesari

एसटीएफ की इंदौर इकाई के पुलिस अधीक्षक मनीष खत्री ने बताया कि मामले में आरोपी इंदौर निवासी दाई लीलाबाई और देवास में रहने वाले उसके दो सहयोगियों-पुष्पा और प्रभुदयाल को गिरफ्तार किया है। इसके अलावा रतलाम से भी एक दंपती को गिरफ्तार किया गया है। एसटीएफ ने इस गिरोह से दो बच्चे भी बरामद किए हैं। एक बच्चा रतलाम के रिटायर्ड इंजीनियर एमपीईबी के यहां से मिला है। जहां एक इंजीनियर ने 13 साल पहले बच्चे को इंदौर के यश अस्पताल से खरीदा था। पुलिस फिलहाल आरोपियों से पूछताछ कर रही है।


Content Writer

meena

Related News