महाशिवरात्रि विशेष: महाकाल मंदिर में लगा भक्तों का तांता, तस्वीरों में करें बाबा के दर्शन

2/21/2020 11:31:43 AM

उज्जैन: उज्जैन के विश्व प्रसिद्ध ज्योतिर्लिंग महाकाल मंदिर में वैसे तो हर रोज भक्त दर्शनों के लिए आते हैं लेकिन आज महाशिवरात्रि पर मंदिर में भक्तों की लंबी लंबी कतारें देखने को मिलेगी। देश विदेश से लाखों की संख्या में भक्त दर्शन करने आएंगे। इसके लिए आज शिवलिंग के दर्शनों के लिए रात 2.30 बजे मंदिर के पट खुल गए।

PunjabKesari

दर्शन का सिलसिला आज रात को 10.30 बजे तक शयन आरती तक जारी रहेगा। इस दौरान 43 घंटे भक्तों के लिए राजाधिराज का दरबार खुला रहेगा। मंदिर समिति ने भक्‍तों की सुविधा के लिए विशेष प्रबंध किए हैं। लंबी कतार को देखते हुए सुरक्षा प्रबंध के लिए अतिरिक्त पुलिस बल भी तैनात किया गया है।

PunjabKesari

59 साल बाद महाशिवरात्रि पर विशेष योग
आमतौर पर श्रवण नक्षत्र में आने वाली शिवरात्रि तथा मकर राशि के चंद्रमा का योग बनता ही है। लेकिन 59 साल बाद शनि के मकर राशि में होने से तथा चंद्र का संचार अनुक्रम में शनि के वर्गोत्तम अवस्था में शश योग का संयोग बन रहा है। चंद्रमा मन तथा शनि ऊर्जा का कारक ग्रह है। महाशिवरात्रि पर इस बार 59 साल बाद शश योग रहेगा। यह योग साधना की सिद्धि के लिए विशेष महत्व रखता है।

PunjabKesari

उज्जयिनी की भूमि साधना के लिए विशेष मानी गई है। ऐसे में कई साधक महानिशाकाल में यहां साधना करेंगे। ज्योतिर्लिंग महाकाल मंदिर में त्रिकाल पूजा होगी। राजाधिराज महाकाल के शीश सवामन फूल व फल से बना सेहरा सजेगा। देवों के देव महादेव

PunjabKesari

शिवतांडव रूप में सजे महाकाल
ज्योतिर्लिंग महाकाल मंदिर में चल रहे शिवनवरात्रि उत्सव के आठवें दिन गुरुवार को भगवान महाकाल का शिवतांडव रूप में श्रृंगार किया गया। भगवान को नवीनवस्त्र, आभूषण तथा फलों की माला धारण कराई गई। तड़के 4 बजे भगवान का सप्तधान रूप में श्रृंगार हुआ।गर्भगृह में भक्‍तों का प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा

PunjabKesari

गर्भगृह में भक्तों व वीआईपी के प्रवेश प्रतिबंधित
भक्तों के जमावड़े को देखते हुए महाकाल मंदिर समिति के अधिकारियों ने महाशिवरात्रि महापर्व पर मंदिर के गर्भगृह में भक्तों व वीआईपी का प्रवेश प्रतिबंधित किया गया है। हालांकि मंदिर के गर्भगृह में भगवान महाकाल की पूजा अर्चना का क्रम चलता रहेगा।

PunjabKesari

सूचना बोर्ड के जरिए मिलेगी विभिन्‍न जानकारियां
महाकाल मंदिर आने वाले दर्शनार्थियों को सूचना बोर्ड के माध्यम से विभिन्न् जानकारियां दी जाएंगी। साल में एक बार दोपहर में होने वाली भस्मारती शनिवार को दोपहर 12 बजे होगी। इसके पूर्व भगवान के शीश सवा मन फूल और फूलों से सेहरा सजाया जाएगा। इसके लिए व्‍यापक इंतजाम किए गए हैं।

 


Edited By

meena

Related News