MP में स्वास्थ्य विभाग को पुरुषों की नसबंदी का मिला टारगेट, पूरा न हुआ तो नहीं मिलेगा वेतन

2/21/2020 11:53:19 AM

भोपाल (इजहार हसन खान): सीएम कमलनाथ ने स्वास्थ्य विभाग को एक अनोखा फरमान जारी किया है। जिसके बाद स्वास्थ्य कर्मचारी सकते में हैं। कमलनाथ सरकार ने नसबंदी को लेकर विभाग को टारगेट दिया है। इसके तहत हर महीने 5 से 10 पुरुषों के नसंबदी ऑपरेशन करवाना अनिवार्य कर दिया है। ऐसा नहीं करने पर कर्मचारियों को नो-वर्क, नो-पे के आधार पर वेतन नहीं दिया जाएगा।

PunjabKesari, Madhya Pradesh Hindi News, Punjab Kesari, Bhopal, BJP, Congress, Vasectomy, Target

इस नए फरमान के बाद अब कर्मचारियों को परिवार नियोजन के लिए लोगों में जागरुकता लाने के लिए घर-घर जाना होगा और नसबंदी के लिए मनाना होगा। इसके साथ ही यह भी शर्त भी है कि लोगों की जबरन नसबंदी नहीं करा सकते। बताया जा रहा है कि वर्तमान में प्रदेश के अधिकांश जिलों में फर्टिलिटी रेट 3 है, सरकार ने इसे 2.1 करने का लक्ष्य रखा है। जिसे पूरा करने के लिए हर साल करीब सात लाख नसबंदी की जानी हैं लेकिन पिछले साल हुई नसबंदियों का आंकड़ा सिर्फ हजारों में रह गया था। इसी के चलते राज्य सरकार ने कर्मचारियों को परिवार नियोजन के अभियान के तहत टारगेट पूरा करने के निर्देश दिए हैं। 

PunjabKesari

प्रदेश में नसबंदी के आंकड़ों का गिरते ग्राफिक्स को देखते हुए राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की संचालक छवि भारद्धाज ने इस पर नाराजगी जताते हुए सभी कलेक्टर और सीएमएचओ को पत्र लिखा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में मात्र 0.5 प्रतिशत पुरुष नसबंदी के ऑपरेशन किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि अब विभाग के पुरुषकर्मियों को जागरुकता अभियान के तहत परिवार नियोजन का टारगेट दिया जाए। उनके इस पत्र के बाद सीएमएचओ ने पत्र जारी कर कहा है कि यदि टारगेट के तहत काम नहीं किया तो अनिवार्य सेवानिवृत्ति के प्रस्ताव भेजेंगे।


Edited By

meena

Related News