Punjab Kesari MP ads

मंत्री टीएस सिंह पर सरकारी जमीन फर्जीवाड़े के आरोप की होगी जांच, तहसीलदार ने दिए आदेश

11/28/2022 7:26:50 PM

अंबिकापुर (प्रशांत कुमार): स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंह देव के खिलाफ की गई पुरानी शिकायत के आधार पर नजूल तहसीलदार ने बकायदा जांच का आदेश देते हुए जांच टीम बना दी है।  23 नवंबर 2022 को जारी इस पत्र में नजूल तहसीलदार अजय गुप्ता ने हल्का पटवारी का दल गठित कर जांच कर 1 सप्ताह के भीतर जांच प्रतिवेदन पंचनामा रिपोर्ट सौंपने का निर्देश दिया है। इस आदेश के बाद राज परिवार के जमीन का मामला एक बार फिर से जिन्न की तरह बाहर निकल कर आ गया है।

PunjabKesari

दरअसल अंबिकापुर नगर निगम के पार्षद वह भाजपा नेता आलोक दुबे ने शिकायत की थी कि स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव और राज परिवार के सदस्य फर्जी तरीके से सरकारी जमीनों को अपने नाम कराया है और बकायदा इसके लिए उन्होंने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल राज्यपाल अंशुईया उईके और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा था। नजूल तहसीलदार के द्वारा जारी किए गए आदेश को भाजपा नेता ने बताया कि प्रधानमंत्री को लिखे गए पत्र का राज्य पत्र सरगुजा पहुंच गया है और इसी के आधार पर नजूल तहसीलदार ने जांच टीम गठित कर जांच करने का आदेश दिया है।

PunjabKesari

वहीं दूसरी ओर बात की जाए तो सरगुजा जिले के कलेक्टर कुंदन कुमार को स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव के जमीन के लिए जांच टीम गठित होने की जानकारी ही नहीं है। उनका कहना है कि सोशल मीडिया के माध्यम से उन्हें इस बात की जानकारी लगी है और इस बात की जानकारी जुटाई जा रही है कि आखिरकार यह आदेश कहां से निकला है। साथ ही जिस नजूल अधिकारी ने इस आदेश को जारी किया है। उन्हें और अंबिकापुर एसडीएम को इस मामले की तफ्तीश करने की जवाबदारी सौंपी गई है।

PunjabKesari

वही जब इस पूरे मामले को लेकर स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव के अधिवक्ता संतोष सिंह से बात की गई तो उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंह देव और राज्य परिवार के पास जो भी संपत्ति है। वह पैतृक संपत्ति है और उनके पूर्वजों द्वारा भारत सरकार से हुए अनुबंध के द्वारा अपने निजी स्वामित्व में रखी गई है। वही सिंह देव को भारत शासन से जो भी संपत्ति प्राप्त हुई है। वह भारत के संविधान अनुच्छेद 364 अंतर्गत किसी भी प्राधिकारी को एवं संसद को भी जांच करने का अधिकार नहीं है और जिस प्रकार से नजूल तहसीलदार ने जांच के आदेश दिए हैं। वह इनका क्षेत्र अधिकार से बाहर का मामला है।

PunjabKesari

बहरहाल स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंह देव और राज परिवार के जमीन के मामले में जांच कमेटी गठित करने वाले नजूल तहसीलदार मीडिया से भागते नजर आ रहे हैं। वहीं दूसरी ओर जिले में मुखिया के रूप में बैठे सरगुजा कलेक्टर को इस बात की जानकारी नहीं है। भाजपा नेता प्रधानमंत्री के पत्र का हवाला दे रहे हैं। ऐसे में यह कह पाना जल्दबाजी होगा कि स्वास्थ्य मंत्रियों टी एस सिंह देव एवं राज परिवार के सदस्यों ने किसी प्रकार के सरकारी जमीनों पर कब्जा कर अपना नाम चढ़वाया  है या उन्हें बदनाम करने की यह सोची समझी साजिश है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

meena

Related News

Recommended News