थाना प्रभारी ने गर्भवती महिला को लात घूंसों से पीटा ! थाने में ही हो गया गर्भपात

4/27/2022 5:38:31 PM

रीवा(सुभाष मिश्रा): मध्य प्रदेश के रीवा में पुलिस पर गंभीर आरोप लगे हैं। आरोप है कि बलात्कार की शिकायत लिखाने आई गर्भवती महिला को पुलिस ने बेरहमी से पीटा जिससे उसका गर्भपात हो गया। महिला थाना प्रभारी थाने में निर्दयता की सारी सीमा लांघ गई। महिला होते हुए भी एक महिला के साथ इस कदर बर्बरता दिखाई कि थाना परिसर ही 2 माह से पेट में पल रहे भ्रूण के खून से लाल हो गया। उसके बावजूद भी उस पर रहम नाम की चीज नहीं दिखी। बता दे कि रीवा के महिला थाना में महिला कर्मचारियों के साथ फरियाद लेकर आई महिला को लात घूंसों से महिला थाना प्रभारी मारती रही जिस पर महिला फरियादी चीख-चीख अपनी जिंदगी को बचाने के लिए दुहाई दे रही थी। वही उक्त महिला पर प्रतिबंधात्मक कार्यवाही कर महिला थाना प्रभारी केंद्रीय जेल लेकर पहुंची। जहां महिला की हालत देख जेल प्रशासन ने उसे लेने से मना कर दिया। आखिरकार गंभीर हालत में महिला को संजय गांधी अस्पताल में उपचार के लिए महिला पुलिसकर्मियों को भर्ती कराना पड़ा व नाजुक हालत में लाई गई। महिला को भर्ती कर महिला थाना की पुलिस लावारिस हालत में छोड़कर भाग खड़ी हुई। आश्चर्य की बात तो यह रही कि महिला थाना प्रभारी ने अपने कृत्य को छुपाने के लिए जिस युवती को लेकर फरियादी महिला न्याय दिलाने आई थी। उस युवती को वन स्टॉप सेंटर में रख दिया।

PunjabKesari

बताया जा रहा है कि घटना शनिवार शाम की है। जब अन्नदाता कारीगर पार्टी की प्रदेश अध्यक्ष निवासी भरसेड़ा थाना सरई जिला सिंगरौली एक दुष्कर्म का शिकार हुई युवती की मदद के लिए महिला थाना पहुंची उनको यह नहीं मालूम था कि खाकी के भेष में देशभक्ति जनसेवा वाली पुलिस नहीं है, बल्कि खून की प्यासी खाकी है। पीड़ित महिला दुर्गावती ने बताया कि एक युवती है जिसके नसीब में बचपन से ही कष्ट लिखा हुआ है। वह नानी के साथ रहती थी एक युवक उसे शादी का झांसा देकर रीवा ले आया और रतहरा में रखे हुए था। इसी बीच उसे गर्भ ठहर गया और युवक उसे छोड़ कर भाग गया।

PunjabKesari

युवती घटना की शिकायत अन्नदाता कारीगर पार्टी कार्यालय में की थी। प्रदेश अध्यक्ष होने के साथ साथ एक महिला होने के नाते मैं उसकी मदद के लिए रीवा महिला थाना पहुंची। थाना प्रभारी से मदद की फरियाद की तो वह अभद्रता पर उतारू हो गई। मैंने बताया कि अन्नदाता कारीगर पार्टी की प्रदेश अध्यक्ष के पद पर हूं। साथ ही अपना कार्ड दिखाया तो उसे छीनकर फाड़ दिया और मारपीट करने लगे। उनकी मदद में कई महिला पुलिसकर्मी भी आ गई। दुर्गावती ने बताया कि महिला पुलिसकर्मियों ने उसे पकड़ लिया और महिला थाना प्रभारी लात घुसा से मारने लग गई। थाना प्रभारी की एक लात पेट पर जोरों से लगी तो उनकी चीख निकल गई। कुछ ही देर में वह खून से लथपथ होकर बेहोश हो गई जब उनको होश आया तो उसने अपने आप को अस्पताल में पाया। जिस युवती को न्याय दिलाने के लिए लेकर आई थी। वह गायब मिली अस्पताल में केवल उसकी मां थी। मां ने बताया कि पुलिस वालों का फोन आया था जिसे सुन वह रात ही सिंगरौली से रीवा के लिए रवाना हो गई।

हालांकि इस पूरे मामले पर एएसपी शिव कुमार वर्मा ने बताया कि मामला पुलिस अधीक्षक रीवा के संज्ञान में आ चुका है वह जांच की जिम्मेदारी सीएसपी को सौंप दिऐ है थाना में लगे कैमरा के सीसीटीवी फुटेज भी खंगाले जाएंगे यदि महिला के साथ थाना में अभद्र व्यवहार किए जाने की पुष्टि होती है तो कदाचित नहीं बख्शा जाएगा उचित कार्यवाही की जाएगी।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

meena

Related News

Recommended News