सिटी अस्पताल के संचालक सरबजीत, देवेश चौरसिया और सपन जैन पर FIR, विवेक तन्खा ने की CBI जांच की मांग

5/11/2021 12:59:04 PM

जबलपुर(विवेक तिवारी): नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन सप्लाई के मामले में पुलिस ने बड़ी कार्रवाई की है। सिटी अस्पताल के संचालक सरबजीत सिंह मोखा, देवेश चौरसिया और सपन जैन पर विभिन्न धाराओं के तहत प्रकरण दर्ज किया गया है। पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ बहुगुणा ने बताया कि सिटी अस्पताल के संचालक सरबजीत सिंह मोखा, देवेश चौरसिया और सपन जैन और अन्य पर प्रकरण दर्ज किया गया है। तीनों पर पुलिस ने 274, 275, 308,420, 120 ए, 53 आपदा प्रबंधन का प्रकरण दर्ज किया गया है। फरार आरोपियों की तलाश की जा रही है।

PunjabKesari

मध्यमवर्गीय लोगो को लगाता था नकली इंजेक्शन
सिटी हॉस्पिटल का संचालक एवं विश्व हिंदू परिषद का नगर अध्यक्ष है सरबजीत सिंह मोखा पुलिस से बचने के लिए खुद को पहले हार्टअटैक आने की अफवाह उड़ाता है तो बाद में कोरोनावायरस की कहानी बना लेता है फिलहाल पुलिस कई ठिकानों पर छापामार कार्यवाही कर चुकी है लेकिन उसका कोई भी पता नहीं लगा है ना उसके साथी अभी गिरफ्त में आए हैं। इस सिटी अस्पताल के बारे में हमने जब पता लगाया तो पता चला कि सिटी अस्पताल में 500 इंजेक्शन आए थे जो कि नकली थे और यह मध्यवर्गीय परिवार को लगाए गए हैं और अ इंजेक्शन जो मिले थे वह वीआईपी लोगों के लिए रखे गए थे। यानी कि जो जो जितना पैसा देता था उसके अनुरूप ही असली और नकली रेमडेसीविर इंजेक्शन लगाए जाते थे फिलहाल पुलिस इस पूरे मामले पर जांच में जुटी हुई है तो लोगों की मांग उठी है कि 1 महीने में कितने मरीज यहां पर भर्ती हुए और कितने को कितने इंजेक्शन लगाए गए इसकी भी जांच होनी चाहिए। इसके साथ ही अस्पताल को पूरी तरह से सील कर देना चाहिए क्योंकि अब भरोसा इस पर लोगों का नहीं रहा।

PunjabKesari

विवेक तंखा ने की सीबीआई जांच की मांग 
जिस तरह से पूरा मामला खुलकर सामने आया है उसको लेकर राजसभा सांसद विवेक तंखा मुखर हो गए हैं। उन्होंने कहा कि इस बड़े मामले का पूरी तरह से खुलासा सीबीआई जांच में ही हो सकता है लिहाजा इसकी सीबीआई जांच सरकार को करानी चाहिए। उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों को किसी भी तरह की राहत नहीं मिलनी चाहिए यह मानवता के दुश्मन हैं।

PunjabKesari

यह है मामला
गुजरात के मोरबी शहर से पुलिस ने नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन बनाने वाले गिरोह का पदार्फाश किया था। गुजरात क्राइम ब्रांच ने गुरुवार देर रात जबलपुर पहुंची और अधारताल पुलिस की मदद से आशानगर अधारताल निवासी सपन उर्फ सोनू जैन को गिरफ्तार ले गई थी। सोनी भगवती फर्म का संचालक है और उसके चाचा की अधारताल में और परिवार की एक दुकान मालवीय चौक में है। गुजरात पुलिस ने सात आरोपियों को गिरफ्तार करते हुए 90 लाख रुपए और 3370 नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन जब्त किए हैं।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

meena

Recommended News

static