cross voting fear: रायपुर से हरियाणा कांग्रेस विधायकों की विदाई, सीएम भूपेश के साथ हो सकते हैं रवाना

6/9/2022 5:22:07 PM

रायपुर (सतेंद्र शर्मा): क्रॉस वोटिंग (cross voting) के डर से हरियाणा कांग्रेस (haryana congress) के सभी विधायकों को रायपुर में ठहराया गया। हरियाणा के सभी विधायक 2 जून की शाम से रायपुर के मेफेयर रिसोर्ट (mayfair lake resort raipur) में ठहरे हुए हैं। लेकिन अब इन सभी विधायकों का इंतजार खत्म होने जा रहा है। सूत्रों से पता चला है कि आज सभी विधायकों को चंडीगढ़ (chandigarh) ले जाया जा रहा है। ऐसा इसलिए माना जा रहा है कि सीएम भूपेश बघेल (cm bhupesh baghel) को राज्यसभा चुनाव (rajya sabha election 2022) के लिए ऑब्जर्वर बनाया गया है। सीएम भूपेश बघेल का आज शाम 5 बजे चंडीगढ़ जाना तय है। माना जा रहा है सीएम भूपेश बघेल के साथ ही हरियाणा के सभी विधायक को भी विशेष विमान (special charter plane) से आज चंडीगढ़ ले जाया जा सकता है।

विधायकों के लिए पहले से बुक हुए 40 कमरे: कांग्रेस

वहां सभी विधायक सीएम भूपेश बघेल (bhupesh baghel) के साथ एक होटेल में रुकेंगे। होटेल में रुकने के विधायकों के लिए 40 कमरे भी बुक हो चुके हैं। सूत्रों की माने तो पिछले 2 जून से कांग्रेस विधायकों को कम से कम दो से तीन बार मॉकड्रिल कराई जा चुकी है। जिससे 10 तारीख को राज्यसभा चुनाव में कोई गलती ना हो। सीएम भूपेश बघेल, राजीव शुक्ला, पूर्व सीएम भूपेन्द्र सिंह हुड्डा समेत कई वरिष्ठ नेताओं ने राज्य सभा चुनाव प्रक्रिया की पूरी जानकारी दी है।

PunjabKesari

ये होता है प्रोसेस

कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओ ने समझाया कि इस आप सभी को पूरी सावधानी रखनी होगी। विधायकों को बताया कि चुनाव बैलेट पेपर पर होंगे। लेकिन इसमें मोहर नहीं लगानी है। बस नम्बर लिखने हैं, चुनाव आयोग (election commission) की ओर से एक विशेष पेन दिया जाएगा। सभी को उसी पेन का उपयोग करना है। लिखते समय सभी को सावधानी रखनी है। इस पेन से सभी को बॉक्स के अंदर नम्बर लिखना है। अगर बॉक्स के बाहर नम्बर लिख गया तो तुम्हारा वोट निरस्त माना जायगा। 

2016 में हुई थी cross voting 

हरियाणा कांग्रेस (haryana congress) के विधायक पिछले चुनाव (2016) में कांग्रेस के 16 विधायकों के वोट निरस्त हो गए थे। कारण यही रहा था कि मतदान के लिए जो खास स्याही बाला पेन दिया गया था। उन विधायकों ने उस पेन का उपयोग ही नहीं किया था। जिसके कारण सुभाष चंद्रा आसानी से राज्यसभा पहुंच गए थे। इसलिए हरियाणा कांग्रेस इस बार कोई गलती नहीं दोहराना चाहती है।   

नंबर गेम में फंस सकती है कांग्रेस ऐसे बिगड़ेगा गणित

विधानसभा में विधायकों की पर्याप्त संख्या होने के बावजूद कांग्रेस नम्बर गेम में फंस सकती है। 40 विधायकों वाली भाजपा (bjp) अपने प्रत्याशी कृष्ण लाल पंवार (krishan lal panwar) को आसानी से राज्यसभा भेजने में कामयाब हो जाएगी। इसके बावजूद बीजेपी के पास 9 विधायक बचेंगे। अब जजपा के 10, हलोपा के 1 और 6 निर्दलीय विधायकों के समर्थन से पर्चा भरने वाले कार्तिकेय शर्मा को अगर भाजपा के 9 विधायक भी वोट करें, तो उनके पास 26 विधायकों का आंकड़ा हो जाएगा। जो कांग्रेस की सांसें फुलाने में कारगर है। कुलदीप बिश्नोई पहले ही कांग्रेस से नाराज हैं। अगर बिश्नोई क्रॉस वोटिंग करते हैं और बलराज कुंडू के साथ साथ अभय चौटाला अगर कार्तिकेय के साथ में चले गए तो माकन का हारना तय है। अब यह 10 जून की शाम को ही साफ हो पाएगा कि कांग्रेस की यह बाड़ेबंदी और प्रशिक्षण संगठन के काम आता है या फिर पूरी मेहनत पर झाड़ू फिरेगी।   


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Devendra Singh

Related News

Recommended News