रतलाम आकर मुझे अपनी जवानी के दिन आ जाते हैं याद, मेरा प्रयास था कि मध्यप्रदेश में निवेश आये, मंदिर मस्जिद में नहीं: Kamalnath

4/22/2022 2:07:54 PM

रतलाम: रतलाम आकर मुझे अपनी जवानी के दिन याद आ जाते हैं, 40 साल पहले हम दिल्ली-मुबंई किसी बड़े शहर जाने की बात करते थे, सबसे पहले रतलाम स्टेशन (raltam station) की बात होती थी। लेकिन, आज इस रतलाम को देख कर मुझे बहुत दुख होता है। यहां अब तारों में बिजली नहीं है, स्कूल में शिक्षक नहीं है, अस्पताल में महिला डॉक्टर नहीं है। सीएम शिवराज (cm shivraj) की आंख और कान समस्या सुनना नहीं चाहते हैं। बस मुंह बहुत चलता है, लेकिन मुंह चलाने, सरकार चलाने में फर्क होता है। यह बात पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ (kamalnath) ने रतलाम के पोलो ग्राउंड में आयोजित सभा में कही। यहां से अगले विधानसभा चुनाव के लिए शंखनाद और महंगाई के खिलाफ रण का बिगुल फूंका गया है। कमलनाथ (kamalnath) ने सभा में कहा कि रतलाम जिला हमारी संस्कृति का प्रतीक है। हर धर्म और जाति के लोग इतने मिलनसार हैं। भाजपा (bjp) के पास आज पैसा है, प्रशासन है, एजेंसी हैं, लेकिन जनता नहीं है।

PunjabKesari

मध्यप्रदेश में निवेश आये, मंदिर मस्जिद में नहीं: कमलनाथ 

कमलनाथ (kamalnath) ने कहा कि बाजार तभी चल सकते हैं जब किसान की जेब में पैसा हो। आज के भटके नौजवान की दुनिया अलग है। वो सिर्फ हाथों को काम चाहता है। मेरा प्रयास था कि मध्यप्रदेश में निवेश आये, मंदिर मस्जिद में नहीं। अब प्रदेश की पहचान सिर्फ भ्रष्टाचार और माफिया से होती है। रतलाम रेल का मुख्य रहा है, यहां कितने सारे मौके आ सकते है, यही मेरा प्रयास था लेकिन ऐसा नहीं हो सका। 

मोदी अगर स्कूल गए होंगे तो वो कांग्रेस ने बनावाया होगा

मोदी और शिवराज (modi and shivraj) कहते हैं कि कांग्रेस ने क्या किया? अगर मोदीजी आप कभी स्कूल में गए हैं तो वो कांग्रेस ने ही बनाया है। ये लोग इतनी एक्टिंग कर लेते हैं तो मुम्बई जाइये, वहां जाकर नाम रोशन करें। मंहगाई आज हद से ज्यादा है। भाजपा का प्रयास है कि अगले 17 महीने में लोगो का ध्यान मंहगाई, किसानों, युवाओं की समस्या पर न जाएं। बस ऐसे मुद्दे पर लाएंगे कि ध्यान खुदवा खुद हट जाएगा, ये कांग्रेस को राष्ट्रवाद का पाठ पढ़ाएंगे, इनकी पार्टी में एक स्वतंत्रता संग्राम सैनानी नहीं है।

ऐसा भी हुआ 

सभा के दौरान स्टेज पर चढ़ने के लिए धक्कामुक्की हुई। स्टेशन रोड थाना प्रभारी किशोर पाटनवाला और अन्य पुलिसकर्मियों से बहस भी हुई। मंच पर संचालक ने आलोट विधायक मनोज चावला का नाम पुकारा लेकिन वो पीछे भीड़ में खड़े रहे और मंच तक नही आ सके। इसे देखकर विक्रांत भूरिया मंच से नीचे कूदे और हाथ पकड़कर चावला को लेकर मंच पर पंहुचे।

इन्होंने भी किया संबोधित 

सभा को सैलाना विधायक हर्ष विजय गेहलोत, आलोट विधायक मनोज चावला, झाबुआ विधायक कांतिलाल भूरिया, प्रदेश युवक कांग्रेस अध्यक्ष विक्रांत भूरिया, नागदा विधायक दिलीप गुर्जर, पेटलावद विधायक वालसिंह भूरिया आदि ने भी संबोधित किया। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Devendra Singh

Related News

Recommended News