इस शिक्षक की तर्ज पर MP के हर कार्यक्रम में हो रहा कन्यापूजन, 23 साल से महिलाओं को दे रहे खास सम्मान

1/19/2021 1:39:12 PM

कटनी (संजीव वर्मा): मध्यप्रदेश के कटनी जिले में पदस्थ एक शिक्षक ने महिलाओं और बच्चियों के सम्मान में एक अनूठा अभियान छेड़ रखा है। पिछले दो दशक पहले से शिक्षक के द्वारा पढ़ाई के पहले यहां कन्या पूजन किया जाता है। ये शिक्षक जहां स्कूल में हर रोज प्रार्थना के समय बिना भेदभाव के सभी वर्ग की छात्राओं का पैर धोकर पूजन करते रहे हैं। वहीं कोरोना महामारी के दौर मे भी ‘हमारा घर हमारा विद्यालय’ के तहत संचालित मोहल्ला क्लास में कन्याओं का पूजन करना नहीं भूलते हैं। पिछले 23 सालों से ये सिलसिला अनवरत जारी है। शिक्षक के इस अनूठे कार्य को हर स्तर पर सराहना भी मिली है। महिलाओं व बच्चियों का सम्मान अभियान को इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड्स में भी शामिल किया गया है। इन्हीं शिक्षक के इस अभियान की तर्ज पर मध्यप्रदेश सरकार ने हर कार्यक्रम के पहले कन्या पूजन की परंपरा शुरू की है।

PunjabKesari, Katni, Madhya Pradesh, unique example of teacher, girl worship, Madhya Pradesh

कटनी जिले के बड़वारा विकासखंड अंतर्गत ग्राम लोहरवारा-1 के शासकीय प्राथमिक शाला में पदस्थ सहायक शिक्षक ने महिला सम्मान की मिशाल कायम की है। शिक्षक सोनी शाला के प्रभारी प्राचार्य भी हैं। राजा भैया महिलाओं और बच्चियों के प्रति समाज को संदेश देने की कोशिश करते रहे हैं। शाला में पढ़ाई से पहले हर रोज सभी वर्ग की छात्राओं के पैर पखारकर कन्या पूजन का तेईस साल पहले शुरू किया गया सिलसिला आज भी जारी रखा है। वे मानते हैं कि कन्या पूजन छात्राओं और महिलाओं का सम्मान बढ़ाने व भेदभाव मिटाने का प्रयास है। इसके लिए उन्हें परिवार से प्रेरणा मिली, लोगों की सोच बदलने के लिए महिलाओं का सम्मान करूंगा। ताकि लोगों में नैतिकता का वातावरण जाएगा और आए दिन हो रहीं दुष्कर्म की घटनाओं पर विराम लगेगा। साथ ही महिलाओं को सम्मान जनक जीवन जीने का अच्छा माहौल मिलेगा। उन्होंने मध्यप्रदेश शासन द्वारा हर कार्यक्रम में कन्या पूजन शुरू करने पर सी एम शिवराज सिंह का आभार व्यक्त किया है। उनका प्रयास है कि स्कूली पाठ्यक्रम में महिलाओं के सम्मान को शामिल किया जाए, हमारे नैतिक शिक्षा में एक पाठ शामिल किया जाए।

PunjabKesari, Katni, Madhya Pradesh, unique example of teacher, girl worship, Madhya Pradesh

बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ के नारे को शिक्षक राजा भैया ने सही अर्थों में सार्थक किया है। शिक्षक द्वारा कन्या पूजन से न केवल स्कूल में पढ़ने वाली बच्चियों में उत्साह का संचार है। बल्कि लोंगो में भी जागरूकता देखी जा सकती है। यही कारण है कि लोग शिक्षक राजा भैया के अनुकरणीय कार्य की सराहना करते हैं। राजा भैया स्थानीय, जिला स्तर से लेकर प्रदेश-देश स्तर पर सम्मानित हो चुके हैं। उन्हें इंडिया व एशिया बुक रिकॉर्डस में भी शामिल किया जा चुका है।


Vikas Tiwari

Related News