Video: महिला ने रो-रोकर खोली हेल्थ सिस्टम की पोल, मुख्यमंत्री व प्रधानमंत्री से लगाई मदद की गुहार

4/8/2020 3:26:23 PM

भोपाल: मध्य प्रदेश में कोरोना संकट के बीच एक कोरोना पॉजिटिव कर्मचारी की पत्नी का वीडियो सामने आया है। वीडियो शिवलोक खजूरीकला निवासी प्रीति पांडे का है जो मंगलवार को जारी किया गया है। इसमें उन्होंने आरोप लगाया है कि उनके पति जो एम्स में एडमिट है, को इलाज के नाम पर महज भर्ती करके रखा गया है। इलाज तो दूर, दो दिन से कोई डॉक्टर देखने तक नहीं आया है। प्रीति का कहना है कि उनके पति राजकुमार एनएचएम में आईटी सलाहकार हैं। ड्यूटी दौरान वे उन अधिकारियों के संपर्क में आए जो कोरोना पॉजीटिव थे और वे भी वायरस की चपेट में आ गए। उन्हें तीन दिन पहले एम्स के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया था। प्रीति का आरोप है उन्हें ठीक से खाना भी नहीं दिया जा रहा है।

PunjabKesari

प्रीति ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर करते हुए पीएम मोदी एवं सीएम शिवराज सिंह से गुहार लगाई है कि वे उनके पति को बचा लें। प्रीति का कहना है कि उनके पति स्वास्थ्य मिशन राज्य कार्यालय भोपाल में आईटी सलाहकार के पद पर कार्यरत हैं। स्वास्थ्य विभाग द्वारा बुलाई गई बैठक में भाग लेने मेरे पति गए हुए थे जहां से वह कोरोना से इनफेक्टेड हो गए। उन्होंने जांच कराई पॉजिटिव होने पर एम्स भोपाल में में भर्ती हो गए 2 दिन से वहां उनका कोई उपचार नहीं हो रहा है। एम्स के ज्यादातर डॉक्टर छुट्टी पर हैं। 2 दिन में उन्हें कोई देखने नहीं आया सिर्फ आइसोलेशन के नाम पर वहां डाल रखा है। न तो उन्हें अच्छा खाना और न हीं उनका सही इलाज हो रहा है।

PunjabKesari
प्रीति ने कहा कि उन्होंने अफ्सरों से गुहार लगाई कि जैसे सभी संक्रमित अधिकारियों को चिरायु अस्पताल में रखकर अच्छा इलाज दिया जा रहा है वैसे ही उनके पति को भी चिरायु लाया जाए, लेकिन किसी ने नहीं सुनी। तीन दिन बाद भी मेरा और ढाई साल के बेटे का सैंपल नहीं लिया गया। हम घर में बंद हैं। घर को सैनिटाइज भी नहीं किया गया है। कृपया मेरी सभी से बार-बार विनती है कि माननीय प्रधान मंत्री जी, मुख्यमंत्री जी तक यह वीडियो पहुंचाए ताकि मेरे पति व मेरे परिवार और मेरे आस-पास  के इलाके में कोरोना से बचाव , सुरक्षा एवं उपचार के लिए त्वरित कार्यवाही हो सके।


Edited By

meena

Related News