शिवपुरी में एक और व्यक्ति में संक्रमण की पुष्टि, मध्य प्रदेश में कुल 21 लोग संक्रमित

3/26/20 7:50:07 PM

भोपाल/शिवपुरी 26 मार्च (भाषा) शिवपुरी में एक और मरीज में गुरुवार को कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि होने के साथ ही मध्य प्रदेश में इस घातक वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 21 हो गई।

मध्य प्रदेश में कोरोना वायस से संक्रमित 21 लोगों में से नौ लोग इंदौर, छह जबलपुर, दो भोपाल, दो व्यक्ति शिवपुरी और एक व्यक्ति ग्वालियर का निवासी है। इन लोगों की हालत स्थिर है और वे अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती हैं। संक्रमित पाई गई उज्जैन निवासी 65 वर्षीय महिला की बुधवार को इंदौर के एक अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गयी।

यह जानकारी मध्यप्रदेश स्वास्थ्य सेवाओं के अधिकारियों से मिली है।

शिवपुरी के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी (सीएमएचओ) डॉ ए एल शर्मा ने बताया कि शिवपुरी शहर के अस्पताल में भर्ती 26 वर्षीय एक और व्यक्ति में कोरोना वायरस संक्रमण की गुरुवार को पुष्टि हुई। वह शिवपुरी जिले के खनियांधाना का रहने वाला है। शर्मा के अनुसार वह 13 मार्च को हैदराबाद गया था और 15 मार्च को हैदराबाद से सम्पर्क क्रांति एक्सप्रेस से लौट कर फिर अपने घर खनियांधाना आया था।
उन्होंने बताया कि उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद उसके पिता को 14 दिन तक अपने ही घर में सेल्फ क्वारेन्टाइन करने का नोटिस दिया गयाहै। इस परिवार को यह हिदायत दी गई है कि वे इस दौरान अन्य लोगों से मिलें-जुलें नहीं । स्वास्थ्य विभाग इन पर निगरानी करेगा।

शर्मा ने बताया कि दो दिन पहले शिवपुरी का जो व्यक्ति कोरोना संक्रमित पाया गया था, उसके माता-पिता की रिपोर्ट निगेटिव आई है जो इस समय क्वेरेंटाइन में हैं।
इसके अलावा, कोरोनो वायरस संक्रमण के संदेह में इंदौर के एक सरकारी अस्पताल में भर्ती 47 वर्षीय पुरुष की बृहस्पतिवार तड़के इलाज के दौरान मौत हो गयी। वह पड़ोस के उज्जैन शहर का रहने वाला था।
शासकीय महात्मा गांधी चिकित्सा महाविद्यालय के एक प्रवक्ता ने बताया कि मरीज को कल बुधवार को ही उज्जैन के सिविल अस्पताल से गंभीर हालत में इंदौर के शासकीय एमआरटीबी अस्पताल भेजा गया था।
उन्होंने बताया, "मरीज सांस लेने में परेशानी, बुखार और खांसी जैसे लक्षणों के साथ अस्पताल में भर्ती हुआ था। उसे कोई अन्य बीमारी नहीं थी।" प्रवक्ता ने बताया कि मरीज की ओर से डॉक्टरों को दी गयी जानकारी के मुताबिक उसने पिछले दिनों कोई लम्बी यात्रा नहीं की थी।
उन्होंने बताया कि एंटीबायोटिक और अन्य दवाओं से मरीज का उपचार किया गया और स्थिति गंभीर होने पर उसे जीवन रक्षक तंत्र पर भी रखा गया। लेकिन तमाम कोशिशों के बावजूद उसकी जान नहीं बचायी जा सकी।

प्रवक्ता ने बताया कि कोरोना वायरस संक्रमण की जांच के लिये मरीज के नमूने प्रयोगशाला भेजे गये हैं। लेकिन अब तक इसकी रिपोर्ट नहीं आयी है।
स्वास्थ्य विभाग के उज्जैन में पदस्थ एक अधिकारी ने बताया कि 47 वर्षीय मरीज को कल बुधवार सुबह ही इस धार्मिक नगरी के सिविल अस्पताल में भर्ती किया गया था। हालत बिगड़ने पर उसे बुधवार दोपहर इंदौर के अस्पताल भेज दिया गया था।

यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।


Edited By

PTI News Agency

Related News