check cloning case: 1 करोड़ 29 लाख रूपए गायब करने वाले 11 आरोपी गिरफ्तार, ऐसे हुआ पर्दाफाश

5/21/2022 4:12:49 PM

कोरिया (सुरजीत रैना): कोरिया जिले के कलेक्टर कार्यालय की नजारात शाखा से चेक क्लोनिंग के माध्यम से 1 करोड़ 29 लाख रूपए गायब करने के मामले में पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी है। अब तक पुलिस ने 11 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। जबकि 2 आरोपी अभी भी फरार बताए जा रहे हैं। जिनकी पुलिस तलाश कर रही है।कोरिया एसपी प्रफुल्ल ठाकुर ने बताया कि चेक क्लोनिंग मामले में ‌अब तक‌ 11 आरोपी को‌ गिरफ्तार किया ‌जा‌ चुके हैं। इनके पास से कई एटीएम कार्ड, मोबाइल, एक कार और नगदी बरामद हुई है। 

फर्जी हस्ताक्षर, चेक, सील के साथ देते थे घटना को अंजाम  

देश में सरकारी राशि फर्जी चेक क्लोन करके निकाले जाने का यह पहला मामला है। मामले में आरोपी ओमप्रकाश, अनिल श्रीवास्तव, सचिन प्रकाश शिरोडकर, जयप्रकाश यादव, हिमांशु तनेजा, शुभम तनेजा सैन्की उर्फ योगेश धरानी, जाकिर सफी शेख, फर्जी खाता धारक दिवान सिंह पारतें तथा मुम्बई का अतीश गायकवाड़, आदित्य नन्दु गायकवाड़ तथा तुषार को गिरफ्तार किया है। पूरे प्रकरण में मुख्य आरोपी ओमप्रकाश श्रीवास्तव देश के बड़े -बड़े फर्म ‌और ‌शासकीय ऑफिस का चेक निकालने तथा सचिन कम्प्यूटर में फर्जी चेक तथा फर्जी हस्ताक्षर एवं फर्जी सील तैयार करता था। वहीं चेक को विभिन्न खातों से जयप्रकाश यादव निकालता था। 

PunjabKesari

क्या था मामला

13 अप्रैल 2022 को पीड़ित संयुक्त कलेक्टर ने थाने में आकर लिखित आवेदन पत्र प्रस्तुत कर रिपोर्ट दर्ज कराया कि 22 मार्च 2022 से 13 अप्रैल 2022 के बीच कलेक्टर कार्यालय कोरिया नाजारत शाखा से लगभग 21 चेकों को क्लोनिंग कर अलग-अलग राशि का चेक विभिन्न बैंक के ब्रांच में कोर बैंकिंग के द्वारा चेक क्लीयरिंग अतीश सुभाष गायकवाड़ निवासी बुद्धनगर आजादनगर थाना उल्हासनगर रूपये कूटरचित कर निकाले हैं।

एक महीने बाद मिली पुलिस को सफलता

पीड़ित की शिकायत के बाद मामला दर्ज किया गया था। मामले की विवेचना में एसपी प्रफुल कुमार ने टीम गठित कर तत्काल दिल्ली, मुम्बई तथा पटना के लिए रवाना की थी। लगभग एक महीने की कोशिश के बाद पूरी रकम‌‌ के साथ 11 आरोपियों को पकड़ने में सफलता हासिल की है।

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Devendra Singh

Related News

Recommended News