नगरीय निकाय चुनाव में बीजेपी ने खेला बड़ा दांव, अनारक्षित वार्ड से OBC प्रत्याशियों को टिकट देकर बताया जनहितैषी

6/18/2022 5:54:48 PM

ग्वालियर (अंकुर जैन): बीजेपी (bjp) ने कड़ी मथापच्ची के बीच देर रात ग्वालियर (gwalior) के 66 वार्डो के प्रत्याशियों की सूची जारी की है। इसके ठीक 10 मिनट बाद कांग्रेस (congress) ने 65 प्रत्याशियों के नामों की सूची को जारी कर दी। हालांकि वार्ड 63 से कांग्रेस के नाम सामने आया अबी बाकी है।

PunjabKesari


दस OBC कैडिंडेट को मिला अनारक्षित वार्ड से टिकट

लगभग पांच दिन के गहन मंथन के बाद जारी हुई भाजपा की सूची में 10 ऐसे ओबीसी उम्मीदवार (OBC Candiates) हैं। जिन्हें अनारक्षित वार्डो से टिकट दिया गया है। वहीं ओबीसी (OBC) के लिए आरक्षित 20 वार्डो में 18 इसी वर्ग के कार्यकर्ताओं को मौका दिया है। पार्टी ने इससे संदेश दिया है कि वह अन्य पिछड़ा वर्ग की हितैषी है। बीजेपी ने 2023 में होने वाले विधानसभा चुनाव (mp assembly election 2022) में इस वर्ग को खुश करने के लिए यह बड़ा दांव खेला है। भाजपा की सूची में ज्योतिरादित्य सिंधिया (jyotiraditya scindia) के साथ कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आए 18 कार्यकर्ताओं को चुनाव मैदान में उतरने का मौका मिला है।

PunjabKesari

नये चेहरों पर पार्टी ने लगाया है दांव 

ज्योतिरादित्य सिंधिया (jyotiraditya scindia) ने अपनी ओर से 27 उम्मीदवारों के लिए टिकटों की मांग की थी। वार्ड 50 और वार्ड 53 ऐसे वार्ड हैं, जोकि पिछड़ा वर्ग के लिए आरक्षित था। इस वार्ड से सामान्य वर्ग (general community) के लोगों को टिकट दिया है। दूसरी तरफ कांग्रेस के जाने-पहचाने चेहरे केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया (jyotiraditya scindia) के साथ जाने के बाद पार्टी नये लोगों पर दांव लगाने के लिए मजबूर है। कांग्रेस (congress) खुद सूची नाम में पढ़कर बोल रहे हैं यह उम्मीदवार कौन हैं, पहले तो पार्टी में इनकों नहीं देखा।

PunjabKesari

पार्टी ने टिकट नहीं दिया को निर्दलीय लड़ना पड़ रहा है चुनाव: प्रत्याशी  

वहीं भाजपा ने महापौर पद की दावेदारी कर रहीं चार महिला नेत्रियों को पार्षद का टिकट देकर संतुष्ट किया है। वहीं बीजेपी ओर कांग्रेस के कई लोगों से देर रात हुई लिस्ट से रूट गये हैं। जिन्होंने कलेक्ट्रेट में निर्दलीय के रूप में अपना पर्चा भरा है। उनका कहना है पार्टी में सालों से काम कर रहे हैं, उसका पार्टी ने ख्याल नहीं रखा है। बल्कि बाहरी लोगों को प्रत्याशी बनाया है। इसके साथ ही गाइडलाइन के उलट हैं। ऐसे में उन्होंने खुले रूप से ऐसे लोगों को हराने की बात की है। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Devendra Singh

Related News

Recommended News